स्वामी दयानन्द सरस्वती के गुरु का का नाम क्या था? 

Explanation : स्वामी दयानन्द सरस्वती के गुरु का का नाम विरजानन्द दण्डीश था। 1861 ई. में मथुरा के स्वामी बिरजानन्द से इन्होंने वेदों की गहन शिक्षा प्राप्त की। इन्होंने ही सर्वप्रथम स्वराज, स्वदेशी शब्द का प्रयोग किया था तथा हिंदी को राष्ट्रभाषा के रूप में स्वीकार किया था। इनकी मृत्यु अजमेर में 30 अक्टूबर, 1883 को हुई थी। स्वामी दयानन्द सरस्वती द्वारा किए गए परिवर्तनों एवं सुधारों के कारण ही उन्हें भारत का मार्टिन लूथर किंग कहा जाता है। वेलेण्टाइन चिरोल ने आर्य समाज को भारतीय अशांति का जन्मदाता कहा है।

Related Post.....