रविंद्र नाथ टैगोर ने अपनी सर की उपाधि क्यों वापस कर दी? 

Explanation : रविंद्र नाथ टैगोर ने अपनी सर की उपाधि जलियांवाला बाग हत्याकांड के कारण वापस कर दी। 13 अप्रैल, 1919 को एक निहत्थी मगर भारी भीड़ अपने लोकप्रिय नेताओं डाँ सैफुद्दीन किचलू और डॉक्टर सत्यपाल की गिरफ्तारी का विरोध करने के लिए जलियांवाला बाग में जमा हुई। इस निहत्थी भीड़ पर जनरल डायर ने गोली चलाने का आदेश दे दिया। जिससे हजारों लोग मारे गये तथा उससे ज्यादा घायल हुये इस भीषण नरसंहार से महान कवि और मानवतावादी रचनाकर रविंद्र नाथ टैगोर क्षुब्ध होकर ब्रिटिश सरकार द्वारा दी गई ‘नाइट’ की उपाधि वापस कर दी।

Related Post.....