रानी दुर्गावती का जन्म कहां हुआ था? 

Explanation : रानी दुर्गावती का जन्म 5 अक्टूबर 1524 को हुआ था। इनका उत्तर प्रदेश के बांदा जिले में कालिंजर के राजा कीर्तिसिंह चंदेल के घर दुर्गावती का जन्म हुआ था। उस दिन दुर्गाष्टमी थी, इसलिए उनका नाम दुर्गावती रखा गया। अपने पिता की वह इकलौती संतान थीं। दुर्गावती उसी चंदेल वंश से थीं जिन्होंने भारत में महमूद गजनी को रोका था। दुर्गावती बचपन से ही वीरांगना थीं। बचपन में ही उन्होंने घुड़सवारी, तलवारबाजी, तीरंदाजी जैसे युद्धकलाओं में निपुणता हासिल कर ली थी। अकबरनामा के अनुसार, वह तीर और बंदूक दोनों से निशाना लगाने में माहिर थीं। वर्ष 1542 में जब वह 18 साल की थीं, तब उनका विवाह गोंड राजवंश के राजा संग्राम शाह के सबसे बड़े बेटे दलपत शाह के साथ कराया गया। पति की मौत के बाद बेटे की अल्प आयु होने के चलते गढ़मंडला की सत्ता संभाली। उन्होंने मुगलों की अधीनता नहीं स्वीकारी। 1564 में मुगलों ने हमला किया। वह गंभीर रूप से घायल होने के बाद भी लड़ती रहीं और अंत में खुद अपनी कटार मार ली, जिससे 24 जून,1564 को निधन हो गया।

Related Post.....