मौर्य प्रशासन में रिपोर्टरों को क्या कहा जाता था? 

Explanation : मौर्य प्रशासन के अंतर्गत रिपोर्टरों को प्रतिवेदक कहा जाता था। इनका कार्य सम्राट को विभिन्न सूचना देना था। राजुक की नियुक्ति ग्रामीण जनपदों की देखभाल के लिए होती थी। इनके पास कर संग्रह के साथ-साथ न्यायिक शक्तियाँ भी थी। ‘युक्त’ केन्द्रीय महामात्य तथा अध्यक्षों के नियंत्रण में निम्न स्तर के कर्मचारी होते थे। नागरक (पौर) नगर का प्रमुख अधिकारी या नगर कोतवाल था।

Related Post.....