खालसा पंथ के संस्थापक कौन थे? 

Explanation : खालसा पंथ के संस्थापक गुरु गोबिंद सिंह थे, जिन्होंने बैसाखी के पर्व के दिन 13 अप्रैल 1699 को खालसा पंथ की स्थापना की। उसी दिन गुरु गोबिंद सिंह ने सबसे पहले 5 प्यारों को अमृत पान करवाया था। साथ ही पांच प्यारों के हाथों से स्वयं भी अमृत पान किया था। गुरु जी द्वारा सजाए गए ‘पंज प्यारे’, जो पहले तो अलग-अलग जाति के थे, उन्हें ‘सिंह’ की उपाधि देकर ‘सिख’ बनाया गया। इसके साथ ही उन्हें भाई की उपाधि भी दी गई। गुरु गोविंद सिंह ने सिख धर्म में गुरु ग्रंथ साहिब को गुरु का दर्जा दिया तथा इसके बाद से यह पुस्तक ही गुरु परंपरा की उत्तराधिकारी बन गई। खालसा को सिख धर्म का रक्षक माना जाता है तथा यह सिख धर्म के युद्ध के पहलू को उजागर करता है। गुरु गोबिंद सिंह का बचपन का नाम गोविन्द राय था। उनका जन्म 1666 में पौष सुदी सप्तमी को पटना शहर में हुआ।

Related Post.....