होमरूल आन्दोलन के उद्देश्य क्या है? 

Explanation : आयरिश महिला और भारत में थियोसॉफिकल सोसाइटी की संचालिका श्रीमती एनीबेसेंट यह चाहती थीं कि भारत में आयरलैंड की भाति ‘होमरूल आंदोलन’ चलाया जाए। भारत में इस आंदोलन का नेतृत्व लोकमान्य तिलक और श्रीमती बेसेंट के द्वारा किया गया। होमरूल आंदोलन के उद्देश्य निम्न थे– 1. होमरूल आंदोलन एक वैधानिक आंदोलन था। इसका प्रथम उद्देश्य भारत के लिए स्वशासन प्राप्त करना था। 2. होमरूल आंदोलन इस विचार पर आधारित था कि स्वशासित भारत साम्राज्य के लिए युद्ध में अधिक सहायक हो सकेगा। 3. इस आंदोलन का उद्देश्य भारतीय राजनीति को उग्रधारा की ओर जाने से रोकना था। इसलिए उन्होंने शांतिपूर्ण वैधानिक आंदोलन चलाना श्रेयस्कर समझा। 4. युद्धकाल में भारतीय राजनीति शिथिल पड़ गई थी अतः भारतीय जनता को सुप्तावस्था से जगाने के लिए इस प्रकार का आंदोलन प्रारंभ किया गया। 5. होमरूल आंदोलन भारत के लिए स्वशासन की याचना नहीं, वरन् अधिकारपूर्ण मांग की अभिव्यक्ति था।