गांधीजी ने भारतीय राजनीति में कब प्रवेश किया? 

Explanation : गांधीजी ने भारतीय राजनीति में 1917 में प्रवेश किया था। 1915 में दक्षिण अफ्रीका से भारत वापस आने के बाद गांधीजी ने भारतीय राजनीति में प्रवेश 1917 के चंपारण सत्याग्रह के माध्यम से किया। इसी सत्याग्रह के सफल होने पर टैगोर ने गांधीजी को पहली बार ‘महात्मा’ कहा। चंपारण में धनी एवं प्रभावशाली भू-स्वामियों की बड़ी-बड़ी जमींदारियां थीं। अधिकांश जमींदारों द्वारा गांवों का पट्टा ठेकेदारों को दे दिया जाता था। इन ठेकेदारों में सर्वाधिक प्रभाव नील की खेती कराने वाले यूरोपीय लोगों का था। इन्होंने किसानों से एक अनुबन्ध करा लिया था कि वे अपनी भूमि के 3/20वें (20 कट्ठा में 3 कट्ठा) हिस्से पर अनिवार्य रूप से नील की खेती करें। यह व्यवस्था ‘तीन कठिया’ के नाम से जानी जाती थी। इसी का विरोध करने के लिए चंपारण से जुड़े एक प्रमुख आंदोलनकारी राजकुमार शुक्ल ने लखनऊ में गांधीजी से भेंट की तथा उनको चंपारण आमंत्रित किया था।