गांधी-इरविन समझौता की विशेषताएं क्या थी? 

Explanation : 5 मार्च, 1931 में महात्मा गांधी और लार्ड इरविन के मध्य एक राजनीतिक समझौता हआ, जिसमें हिंसा के आरोपियों को छोड़कर बाकी सभी राजनीतिक बंदियों को रिहा करने, भारतीयों को समुद्र के किनारे नमक बनाने का अधिकार देने, भारतीयों को अब शराब तथा विदेशी कपड़ों की दुकानों के सामने धरना देने इत्यादि मांगों को मान लिया गया था। कांग्रेस की ओर से गांधीजी ने सविनय अवज्ञा स्थगित कर द्वितीय गोलमेज सम्मेलन में भाग लेना स्वीकार किया।

Related Post.....