दाग और हुलिया प्रथा किसने प्रारम्भ की थी? 

Explanation : दाग और हुलिया प्रथा अलाउद्दीन खिलजी ने प्रारम्भ की थी। युद्ध के अवसर पर सैनिक अपने स्थान पर किसी अन्य व्यक्ति को न भेज दें, इसकी रोकथाम के लिए अलाउद्दीन ने सैनिकों की हुलिया लिखने की प्रथा प्रारम्भ की। दीवान-ए-आरिज सैनिकों की हुलिया रखता था। इसी प्रकार उसने घोड़ों को दागने की प्रथा भी प्रारम्भ की।

Related Post.....