ब्रिटिश भारत में प्रांतीय स्वायत्तता की शुरुआत किसने की? 

Explanation : ब्रिटिश भारत में प्रांतीय स्वायत्तता की शुरुआत भारत सरकार अधिनियम 1935 के द्वारा की गई। इस अधिनियम के द्वारा प्रांतों में वैध शासन व्यवस्था को समाप्त कर उन्हें एक स्वतंत्र एवं स्वशासित संवैधानिक आधार प्रदान किया गया। 1935 के अधिनियम (Act of 1935) द्वारा अखिल भारतीय संघ की स्थापना की गई तथा केंद्र में द्वैध शासन स्थापित किया गया। गवर्नर-जनरल को कुछ विशेष अधिकार देकर संघीय व्यवस्थापिका को शक्तिहीन बना दिया गया। इस अधिनियम में प्रांतों को पूर्ण स्वायत्तता प्रदान की गई। कांग्रेस तथा अन्य दल इस अधिनियम से संतुष्ट नहीं हुए। देशी रियासतों के शासकों ने संघ योजना के प्रति कोई रुचि नहीं दिखाई। अतः इस अधिनियम का संघीय भाग लागू नहीं हो सका।