अंग्रेजों ने रायबहादुर की उपाधि किसे दी? 

Explanation : अंग्रेजों ने रायबहादुर की उपाधि जमनालाल बजाज को दी थी। राय बहादुर या राव बहादुर ब्रिटिश शासन में दिया जाने वाला एक सम्मान था जो क्षेत्र के जागीरदार और सम्मानीय व्यक्ति को दिया जाता था। राय बहादुर और खान बहादुर की उपाधियां वायसराय लॉर्ड लिटन के कार्यकाल में दी जाती थी। रोलेट एक्ट के विरोध में 13 अप्रैल 1919 को पंजाब प्रांत के जलियावाला बाग में बैशाखी के दिन एक आम सभा का आयोजन किया गया था। उस वक्त सभा से नाराज ब्रिट्रिश अफसर जनरल डायर ने जलियावाला बाग को चारों तरफ से घेरते हुए सभा में मौजूद लोगों पर गोली चलाने के आदेश दिए थे। इस घटना में एक हजार भारतीयों की मौत हो गई थी, जबकि करीब दो हजार लोग घायल हुए थे। इसके बाद महात्मा गाँधी ने अपनी केसर-ए-हिन्द की उपाधि वापस कर दी तथा जमनालाल बजाज ने अपनी राय बहादुर की उपाधि वापस कर दी।